Libra Horoscope Yearly 2015

Libra (तुला) Horoscope

तुला- रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते

Libra (तुला) राशि के लिए शुभ

तुला राशि के लिए शनि, बुध, शुक्र एवं शुभ ग्रह है,
तुला राशि के लिए मिथून, तुला, मकर और कुम्भ शुभ राशि है,
तुला राशि के लिए लाल , सफेद, क्रीम, हरा एवं बैंगनी शुभ रंग है,
तुला राशि के लिए बुधवार, शुक्रवार एवं शनिवार शुभ वार है,
तुला राशि के लिए 5, 6 एवं 8 अंक शुभ है,
तुला राशि का स्वामी शुक्र है, हीरा शुभ रत्न है, पन्ना भी पहन सकते है,
तुला राशि के लिए भगवान शंकर, गणेश एवं हनुमान जी शुभ देवता है,
तुला राशि के लिए शुक्रवार का दिन और तिथि पंचमी का व्रत शुभ है,
तुला राशि के लिए छहमुखी रूद्राक्ष एवं सातमुखी रूद्राक्ष शुभ रूद्राक्ष है,

Libra (तुला) Yearly horoscope 2017

जनवरी  :-  मंगल बुध और राशि का स्वामी शुक्र चौथे भाव में साथ है, इन पर शनि की विशेष दृस्टि भी है, व्यापार सम्बन्धी कुछ नई योजनाये बनेगी, बहुत अधिक भाग दौड़  करने के बाद भी धन लाभ कम ही होगा, माघ संक्रांति पर गर्म  कपड़े दान करे,  या धार्मिक पुस्तक मंदिर में दान दे, लाभदायक होगा,

फरवरी  :-  इस राशि पे पांचवे स्थान में मंगल शुक्र दोनों साथ बने हुए है, महीने के शुरू में धन लाभ होगा,  और उन्नति के योग बनेगे, नए वाहन आदि का सुख मिलेगा, परन्तु मंगल के कारण मानसिक परेशानी और अचानक धन खर्च बढ़ेंगे, दुर्घटना आदि का डर बना रहेगा, सावधानी बरते,

मार्च:- महीने के प्रारम्भ में शुक्र छठे स्थान में संचारित है, कड़ी मेहनत के बाद भी गुजारे योग्य आय के साधन ही बन पाएंगे, सवारी , सिनेमा संगीत आदि कार्यो में धन खर्च की मात्रा अधिक होगी, 12 मार्च के बाद तुला राशि पर शुक्र की दृष्टि होने से पुराने बिगड़े हुए कामो में सुधार के अवसर प्राप्त होंगे,

अप्रैल :- इस राशि पर मंगल और शुक्र दोनों की दृष्टि साथ पड़ने से क्रोध अधिक और उत्तेजना अत्यधिक मात्रा में बढ़ेगी, आय की तुलना में खर्च अधिक होंगे, परिवार में निकट बंधू में आपसी मनमुटाव की आशंका रहेगी, दुर्घटना में चोट का डर रहेगा, बैसाख सक्रांति को अनाज गुड फल का दान करना लाभदायक रहेगा,

मई :-  महीने की शुरुआत में इस राशि पर सूर्य और मंगल दोनों की दृष्टि पड़ने से लाभ कम होगा,  और खर्च अधिक होंगे, सर में दर्द रहना और आँखों में कष्ट के योग है, किन्तु राशि का स्वामी शुक्र भाग्य के स्थान में होने से गुजारे योग्य आय के साधन बनते रहेंगे, सूर्य की उपासना करना लाभदायक  रहेगा,

जून :-  राशि का स्वामी शुक्र गुरु के साथ दसवे स्थान पे है, किसी मित्र के सहयोग से कोई पुराना बिगड़ा कार्य बनेगा, परेशानी के बाद भी कुछ धन की प्राप्ति होगी, परन्तु धन अधिक खर्च होगा, महीने के अंत में मानसिक तनाव में अधिकता रहेगी, वाहन  चलाते समय सावधानी बरते, चोट लगने का डर रहेगा,  श्री हनुमान चालिषा का पाठ करे,

जुलाई :- शनि की साढ़े साती का प्रभाव दिखाई देगा, मन अशांत रहेगा, और पारिवारिक परेशानी बढ़ेगी, बहुत अधिक मेहनत के बाद लाभ कम होगा, खर्चो की मात्रा में अधिकता होगी, महीने के अंत में रुके हुए कार्य सुधार आएगा, आय में अधिकता होगी, लेकिन खर्च भी अधिक होगा, मान सामान में वर्द्धि होगी, नए लोगो के साथ मेलजोल बढ़ेंगे,

अगस्त :- महीने के शुरू में इस राशि पर मंगल की दृष्टि रहेगी, जिससे स्वभाव में क्रोध अधिक  व् मानसिक तनाव भी अधिक रहेगा, शनि की साढ़े साती के कारण बहुत अधिक मेहनत करने के बाद ही गुजारे योग्य धन प्राप्त होगा, लेन देन  करते समय सावधानी बरते , बनते कामो में बाधा उत्पन्न होगी, और कामो में देरी होगी, 27 तारीख से हालात में कुछ सुधार होगा, किन्तु खर्चो की मात्रा में अधिकता रहेगी,

सिंतबर :- महीने के शुरू में इस राशि पर मंगल की दृष्टि पड़ रही है और शनि की साढ़े साती लगी हुई है, परिणामस्वरूप व्यापार में अधिक मेहनत के बाद भी आय के साधनो में कमी होगी, गुजारे योग्य आय होती रहेगी,  16 तारीख के बाद भूमि मकान और गाड़ियों सम्बन्धी परेशानिया होगी, परिवार में बेकार का परेशानी के योग बनेंगे, धन अधिक रहेगा, श्री दुर्गा कवच पाठ करना लाभदायक रहेगा,

अक्टूबर :- बारवे भाव में सूर्य राहु का योग होने से बनते कामो में रुकावटे आएगी, परिवार सम्बन्धी, परेशानी बढ़ेगी, और मानसिक तनाव बढ़ेगा, जीवनयापन योग्य धन की प्राप्ति होगी, शनि साढ़े साती के कारण शरीर  में कष्ट रहे, स्वास्थ्य में हानि रहे, मानसिक तनाव के योग बनेंगे, कामो में धन खर्च अधिक होगा, 17 तारीख से कार्तिक माहात्म्य का पाठ करना शुभ होगा,

नवम्बर:- महीने की शुरुआत में इस राशी  पर सूर्य और बुध अशुभ रहेगा, परिणाम आय कम होगी,  और धन खर्च अधिक होंगे,बेकार की भाग दौड़ और अनावस्यक खर्च बढ़ेगा, धन की हानि होगी, और स्वास्थ्य नरम रहेगा, बनते कामो में बाधा होगी, मन अशांत और गुस्सेल स्वभाव अधिक रहेगा, अधिकांश समय मनोरजंन और बेकार के कामो में बीतेगा, भगवान सूर्य को अर्घ्य देना लाभदायक  होगा,

दिसम्बर :- दैनिक कार्यो में प्रगति होगी, गुजारे योग्य आय के साधन बनेगे, सवारी आदि सुखो की प्राप्ति होगी, परन्तु शनि साढ़े साती  के कारण महीने  के अंत में आय कम होगी,  लेकिन धन खर्च अधिक होगा, महीने के शुरू में राशि स्वामी शुक्र संचार करेगा,