Virgo Horoscope Yearly 2015

Virgo (कन्या) Horoscope

कन्या- टो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो

Virgo (कन्या) राशि के लिए शुभ

कन्या राशि के लिए शनि, बुध, शुक्र एवं शुभ ग्रह है,
कन्या राशि के लिए वृषभ, कन्या और मकर शुभ राशि है,
कन्या राशि के लिए नारंगी, क्रीम, लाल , हरा, नीला, काला शुभ रंग है,
कन्या राशि के लिए बुधवार, शुक्रवार एवं शनिवार शुभ वार है,
कन्या राशि के लिए 1, 5 एवं 6, 8 अंक शुभ अंक है,
कन्या राशि का स्वामी बुध है, पन्ना शुभ रत्न है, हीरा भी पहन सकते है
कन्या राशि के लिए देव कुबेरजी, गणेशजी, हनुमान जी एवं विष्णुजी शुभ देवता है,
कन्या राशि के लिए बुधवार का दिन और तिथि चतुर्थी का व्रत शुभ है,
कन्या राशि के लिए चारमुखी, छहमुखी रूद्राक्ष एवं सातमुखी रूद्राक्ष शुभ रूद्राक्ष है,

Virgo (कन्या) Yearly horoscope 2017

जनवरी  :-  इस राशि पर राहु चल रहा है, राशि का स्वामी बुध , शुक्र के साथ पाचवे भाव में है, अत्यधिक मेहनत के बाद जीविकोपार्जन योग्य आय के साधन बनेंगे, बहुत अधिक खर्च और घरेलू परशानी के कारण तनाव बना रहेगा, बनते कामो में रुकावटे पैदा होगी

फरवरी  :-   राशि का स्वामी बुध पांचवे भाव में सूर्य के साथ  है, काम निकलने योग्य ही आय के साधन बनेगे, परन्तु राहु के कारण मानसिक तनाव और परेशानी का सामना करना पड़ेगा, महीने के अंत में स्वास्थ्य में परेशानी का डर रहेगा, अत्यधिक क्रोध से बचे,

मार्च:- इस महीने गुजारे योग्य ही आय के साधन जुटा पाएंगे, क्यों की  महीने के शुरू में बुध पांचवे स्थान पे संचार कर रहा है 9 मार्च से बुध 6 स्थान में आने से बनते कामो में रुकावटे पैदा होगी, खर्च की मात्रा अधिक होगी, किसी अपने से धोखा मिलने के योग है, सावधानी रखे,

अप्रैल :- इस राशि पर राहु चल रहा है, जिससे व्ययर्थ की  भाग दौड़ अधिक रहेगी,  और धन का खर्च अधिक होगा, किसी निकट व्यक्ति से मेलजोल में कमी होगी,  अत्यधिक क्रोध से कोई बना हुआ काम बिगड़ेगा, आर्थिक परेशानी होने से घर में मानसिक तनाव रहेगा, वाहन  चलते समय सावधानी बरते,

मई :-  स्वास्थ्य नरम रहेगा, स्वभाव में तेजी और बेकार की भाग दौड़ ज्यादा रहेगी, दुश्मन हानि पहुँचाने  का प्रयास करेंगे, क्यों की इस राशि पर राहु चल रहा है, मंगल और बुध साथ होने से किसी नए काम की योजना बनेगी, फिर भी आर्थिक आय के साधन कम रहेंगे, श्री दुर्गासप्तसती का पाठ करे, लाभदायक  रहेगा,

जून :-  महीने के प्रारम्भ में राशि का स्वामी बुभ नौवे स्थान में सूर्य और मंगल के साथ है, किसी शुभ कार्यो में धन खर्च अधिक होने के योग, बनते काम बिगड़ेंगे, उत्तरार्ध में किसी प्रीय  बंधू से मन मुटाव व् गलतफहमी उत्पन्न हो, अचानक धन खर्च होगा, सोच विचार कर धन खर्च करे, किसी निकट बंधू से धोखा मिल सकता है, श्री गणेश चलिषा का पाठ करना लाभदायक  रहेगा,

जुलाई :- महीने के शुरू में इस राशि पर मंगल की विशेष दृष्टि पड़ने के कारण  मानसिक परेशानी अधिक रहेगी, कुछ उलझनों का सामना भी करना पड़ेगा,  जीवन यापन योग्य धन लाभ के अवसर बनते रहेंगे, खर्च की तुलना में आय कम रहेगी,  किसी प्रिय व्यक्ति से धोका मिलेगा, सावधानी बरते, श्री दुर्गासप्तसती का पाठ करना शुभ रहेगा,

अगस्त :- महीने के प्रारम्भ में भाग दौड़ ज्यादा रहेगी, आय के साधनो में कमी रहेगी, तथा खर्च अधिक रहेंगे, कार्य व्यापार में अधिक मेहनत होगी, करीबी मित्रो, परिवार बंधू से तनाव बना रहे, 23 तारीख के बाद हालात में सुधार होने के योग है,

सिंतबर :- महीने के प्रारम्भ में इस राशि पर बुध रहेगा, धन लाभ में अधिकता रहेगी, उन्नति के अवसर प्राप्त होंगे, नौकरी और व्यापार में उन्नति के मार्ग खुलेंगे, ग्यारवे स्थान में मंगल शुक्र की सस्थिति के कारण मनोरंजन के कामो में पैसा अधिक खर्च होगा, किसी प्रिय व्यक्ति से सम्बन्ध अच्छे बनेंगे, अचानक खर्चे भी बढ़ेंगे,

अक्टूबर :- अक्टूबर महीने की  सोलह तारीख तक इस राशि में बुध और सूर्य रहेंगे , जिससे  सरकारी काम काज में प्रगति होगी, दैनिक कामो में भी सुधार होगा, आय के साधन कम रहेंगे, इस महीने की 17 तारीख बाद राशि का स्वामी सूर्य संचार करेगा, जिससे बेकार के खर्च बढ़ेंगे, मुश्किल  हालात में भी  लाभ लाभ कम होगा,

नवम्बर:- इस राशि मे महीने के शुरू में मंगल शुक्र व् राहु तीनो बने रहेंगे, इस महीने आराम कम मिलेगा,  व् मेहनत अधिक करनी पड़ेगी, जमीन जायदाद और वाहन सम्बन्धी समस्या उत्पन्न होगी, व्यापार में भाग दौड़ अधिक और आय के साधनो में कमी रहेगी, स्वास्थ्य  में परेशानी रहेगी, वाहन से चोट लगने का डर, शरीर में कष्ट के योग है, श्री दुर्गा कवच का पाठ करना लाभदायक होगा,

दिसम्बर :- इस राशि में महीने के प्रारम्भ में मंगल और राहु दोनों साथ होने से अचानक खर्च ज्यादा होगा, बेकार की भाग दौड़ अधिक रहेगी, अधिक क्रोध के कारण हानि की आशंका रहेगी, बनते कामो में रुकावट होगी, सुख साधनो में पैसा खर्च होगा, आँखों में कष्ट होने के योग है, श्री दुर्गासप्तसती के पाठ करना लाभदायक रहेगा,